Ancient HistoryHistoryLatest Post

UPSC Ancient History PYQ Solution | UPSC Previous Year Question 2001-2022 | UPSCSITE

UPSC Ancient History PYQ Solution, UPSC Previous Year Question 2001-2022, 22Years UPSC PYQ Solutions, UPSC Previous Year Questions, Ancient History PYQ, UPSC Ancient History PYQ Solution 2001-2022,

नमस्कार दोस्तों, UPSC SITE आपके लिए लेकर आया है “प्राचीन भारत का इतिहास” Ancient History Previous Year Question 2001-2022, जिनकी प्रैक्टिस आप ऑनलाइन कर सकते है। हमारे संग्रह टेस्ट्स को प्रैक्टिस करने के बाद आपको अपनी तैयारी में अंतर समझ आने लग जायेगा। क्यूंकि हमने यहां पर केवल उन्ही प्रश्नो को सम्मिलित किया है UPSC Prelims परीक्षा में पहले पूछे जा चुके है। 

UPSC Ancient History PYQ Solution

1.हिन्द (भारत) की जनता के सन्दर्भ में ‘हिन्दू’ शब्द का प्रथम बार प्रयोग किया था:

  1. यूनानियों ने
  2. रोमवासियों ने 
  3. चीनियाँ ने
  4. अरबों ने

Ans – 4

हिन्दू शब्द का प्रथम बार प्रयोग अरबों ने किया। अरबी लोग ‘स’ के स्थान पर ‘ह’ शब्द का प्रयोग करते थे अतः सिन्धु को उन्होंने हिन्दु कहा। अलबरूनी ने किताब-अल-हिन्द में भारतीयों के लिए हिन्दु शब्द का प्रयोग किया।

2. निम्नलिखित में कौन-सी वह ब्रह्मवादिनी थी जिसने कुछ वेद मन्त्रों की रचना की थी?

  1. लोपामुद्रा
  2. गार्गी
  3. लीलावती
  4. सावित्री 

Ans- 1

लोपामुद्रा, घोषा, सिक्ता, विश्ववारा, अपाला और निवावरी आदि विदुषी स्त्रियों ने वेदमंत्रों (वैदिक ऋचाओं) की रचना की थी। 

3. गुप्त काल में लिखित संस्कृत नाटकों में स्त्री और शुद्र बोलते हैं:

  1. संस्कृत
  2. प्राकृत
  3. पालि
  4. सौरसेनी

Ans – 2

गुप्तकालीन नाटकों में निम्न सामाजिक स्तर के लोग (शूद्र) तथा स्त्रियाँ प्राकृत तथा उच्च सामाजिक स्तर के लोग संस्कृत बोलते हैं।

4. अशोक का अपने शिलालेखों में सामान्यतः जिस नाम से उल्लेख हुआ है, वह है-

  1. चक्रवर्ती
  2. धर्मदेव
  3. धर्मकीर्ति
  4. प्रियदर्शी

Ans – 4

अशोक के अधिकांश शिलालेखों एवं अभिलेखों में उसे प्रियदर्शी ही कहा गया है। यद्यपि कुछ शिलालेखों में देवानाम् प्रिय तथा अशोक नाम का भी उल्लेख मिलता है।

5. प्राचीन संस्कृत ग्रन्थों में प्राप्त ‘ यवनप्रिय’ शब्द द्योतक था:

  1. एक प्रकार का उत्कृष्ट भारतीय मलमल का
  2. हाथी दाँत का
  3. नृत्य के लिए यवन राजसभा में भेजी जाने वाली नर्तकियों
  4. कालीमिर्च का

Ans – 4

यवन इण्डो-ग्रीक थे। उन्हें काली मिर्च बहुत अधिक पसन्द थी इसलिये कालीमिर्च का नाम ही ‘यवनप्रिय’ हो गया और तब से इसी ‘यवनप्रिय’ नाम से जाना जाता है।

UPSC Ancient History PYQ Solution

6. अणुव्रत सिद्धान्त का प्रतिपादन किया था: 

  1. महायान बौद्ध सम्प्रदाय ने 
  2. हीनयान बौद्ध सम्प्रदाय ने
  3. जैन धर्म ने
  4. लोकायत शाखा ने

Ans – 3

जैन धर्म में पाँच महाव्रतों अहिंसा, सत्य, अस्तेय, अपरिग्रह, – ब्रह्मचर्य – के पालन का विधान है। जैन भिक्षु इसे कठोरता से पालन करते हैं। गृहस्थ जीवन व्यतीत करने वाले जैनियों के लिए भी ये पाँच नियम अनिवार्य हैं, किन्तु उनकी कठोरता में कमी कर दी गयी है, इसीलिए इसे अणुव्रत कहा जाता है।

7. दर्शन की मीमांसा प्रणाली के अनुसार, मुक्ति निम्नलिखित में से किन साधनों से संभव है?

  1. ज्ञान
  2. भक्ति
  3. योग 
  4. कर्म

Ans – 4

मीमांसा का अर्थ खोज या छानबीन होता है। इसके दो भाग हैं। पूर्व मीमांसा और उत्तर मीमांसा । पूर्व मीमांसा धर्म की व्याख्या सद्गुणों, नैतिकता और कर्तव्य के रूप में करती है। मीमांसा दर्शनशास्त्र कर्म के सिद्धांत पर जोर देता है जिसके अनुसार ‘कर्म’ मुक्ति का माध्यम बन सकता है।

UPSC Ancient History PYQ Solution

8. चोल काल के दौरान नटराज के कांस्य प्रतिमा, देवता का निरपवाद रूप से निम्नलिखित के साथ दिखाती है:

  1. आठ हाथ
  2. छह हाथ
  3. चार हाथ
  4. दो हाथ

Ans – 3

नटराज की चार हाथों वाली कांस्य प्रतिमा चोल काल की मूर्तिकला की सर्वोत्तम उदाहरण हैं।

9. प्राचीन भारत के विश्वोत्पत्ति (Cosmogonic) विषयक धारणाओं के अनुसार चार युगों के चक्र का क्रम इस प्रकार है:-

  1. द्वापर, कृत, त्रेता और कलि
  2. कृत, द्वापर, त्रेता और कलि
  3. कृत, त्रेता, द्वापर और कलि
  4. त्रेता, द्वापर,कलि और कृत

Ans – 3

सृष्टि के सम्पूर्ण काल को चार युगों में बाँटा गया है, जिसका क्रम इस प्रकार है- कृत, त्रेता, द्वापर और कलियुग ।

10. देवदासी संस्था के प्रसंग में निम्नलिखित में से कौन-सा मन्दिर समाचारों में चर्चित रहा है?

  1. जगन्नाथ मन्दिर, पुरी
  2. पशुपतिनाथ मन्दिर, काठमाण्डू 
  3. कन्दरिया महादेव मन्दिर, खजुराहो
  4. चौसठ योगिनी मन्दिर, भेड़ाघाट

Ans – 1

पुरी का जगन्नाथ मंदिर देवदासी संस्था के प्रसंग में चर्चित रहा है।

UPSC Ancient History PYQ Solution

11.आरम्भिक वैदिक साहित्य में सर्वाधिक वर्णित नदी है:

  1. सिन्धु 
  2. शुतुद्री 
  3. सरस्वती 
  4. गंगा

Ans – 1

आरम्भिक वैदिक साहित्य (ऋग्वेद) में सर्वाधिक वर्णित नदी सिंधु है। दूसरी सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण एवं पवित्र नदी सरस्वती है। गंगा का सिर्फ एक बार एवं यमुना का तीन बार उल्लेख है।

12.निम्नलिखित में से कौन-सा आरम्भिक जैन साहित्य का भाग नहीं है?

  1. थेरीगाथा
  2. आचारांगसूत्र
  3. सूत्रकृतांग 
  4. वृहत्कल्पसूत्र 

Ans – 1

‘थेरीगाथा’ बौद्ध साहित्य का भाग है जैन साहित्य का नहीं। जबकि आचारांगसूत्र, सूत्रकृतांग एवं वृहत्कल्पसूत्र जैन साहित्य के भाग है।

13. निम्नलिखित में से कौन-से तथ्य बौद्ध धर्म और जैन धर्म दोनों में समान रूप से विद्यमान थे? 

  1. तप और भोग की अति का परिहार
  2. वेद प्रामाण्य के प्रति अनास्था
  3. कर्मकाण्डों की फलता का निषेध 
  4. प्राणियों की हिंसा का निषेध (अहिंसा)

नीचे दिए हुए कूट का प्रयोग करते हुए सही उत्तर का चयन कीजिए:

कूट: 

  1. 1, 2, 3 और 4 
  2. 2, 3 और 4
  3. 1, 3 और 4
  4. 1 और 2

Ans – 2

बौद्ध एवं जैन धर्म के सिद्धान्तों में कुछ समानताएं पाई जाती हैं। वेद प्रमाण्य के प्रति अनास्था, कर्मकाण्डों की फलता का निषेध तथा प्राणियों की हिंसा का निषेध (अहिंसा) जैसे सिद्धान्त दोनों धर्मो में समान रूप से विद्यमान थे। जैन धर्म में तप और भोग की अति का परिहार नहीं था, बल्कि इस पर अधिक बल दिया, जबकि बौद्ध धर्म ने तप और भोग के अति की निन्दा की तथा मध्यममार्ग का अनुसरण करने को कहा। ‘संल्लेखन’ जैनधर्म के अतिवादी रूप का उदाहरण है।

UPSC Ancient History PYQ Solution

14.प्राचीन भारतीय समाज के प्रसंग में निम्नलिखित शब्दों में से कौन-सा शब्द शेष तीन के वर्ग का नहीं है? 

  1. कुल 
  2. वंश
  3. कोश
  4. गोत्र

Ans – 3

कोष’ शब्द खजाने के लिये प्रयुक्त किया जाता था और बाकी तीन शब्दों का सम्बन्ध परिवार से है।

15. निम्नलिखित में से कौन गुप्तकाल में अपनी आयुर्विज्ञान विषयक रचना के लिए जाना जाता है? 

  1. सौमिल्ल 
  2. शुद्रक 
  3. शौनक 
  4. सुश्रुत

Ans – 4

सुश्रुत, गुप्तकाल में अपनी आयुर्विज्ञान विषयक रचना ‘सुश्रुत संहिता’ के लिए जाने जाते हैं। इनका आविर्भाव चरक के कुछ समय बाद हुआ था। इन्होंने शल्य चिकित्सा के 121 उपकरणों का उल्लेख किया है। इन्हें शल्य चिकित्सा एवं प्लास्टिक सर्जरी का जनक माना जाता है।

UPSC Ancient History PYQ Solution

16.निम्नलिखित में से किस मूर्तिकला में सदैव हरित स्तरित चटटान (शिस्ट) का प्रयोग माध्यम के रूप में होता था?

  1. मौर्य मूर्तिकला
  2. मथुरा मूर्तिकला 
  3. भरहुत मूर्तिकला 
  4. गान्धार मूर्तिकला

Ans – 3

भरहुत स्तूप तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में मौर्य सम्राट अशोक ने स्थापित करवाये थे। परन्तु दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व में भी शुंग काल के दौरान इन स्तूपों पर कलात्मक कार्य प्रारम्भ हुए थे। भरहुत से प्राप्त अवशेषों में बुद्ध की पूर्व जन्म की जातक कथाओं के दृश्य तथा वृक्ष, वेदिकाएँ, पुष्प, जानवरों की आकृतियाँ आदि रेखांकित कर बनाई गई हैं। भरहुत मूर्तिकला में सदैव हरित स्तरित चट्टान (शिस्ट) का प्रयोग माध्यम के रूप में होता था।

17. प्राचीन भारत के निम्नलिखित ग्रन्थों में से किसमें पति द्वारा परित्यक्त पत्नी के लिए विवाह विच्छेद की अनुमति दी गई है?

  1. कामसूत्र
  2. मानवधर्म शास्त्र
  3. शुक्र नीतिसार
  4. अर्थशास्त्र

Ans – 4

अर्थशास्त्र में पति द्वारा परित्यक्त पत्नी के विवाह विच्छेद की अनुमति दी गई है। अर्थशास्त्र की रचना कौटिल्य द्वारा की गयी थी। यह राजनीतिशास्त्र पर लिखी गई पुस्तक है। विवाह विच्छेद के लिए अर्थशास्त्र में ‘मोक्ष’ शब्द का प्रयोग किया गया है।

18. निम्नलिखित वक्तव्यों में कौन-सा एक वक्तव्य अशोक के प्रस्तर स्तम्भों के बारे में गलत है? 

  1. इन पर बढ़िया पॉलिश है
  2. यह अखण्ड है
  3. स्तम्भों का शॉफ्ट शुण्डाकार है 
  4. ये स्थापत्य संरचना के भाग हैं

Ans – 4

अशोक के पाषाण स्तम्भ धम्म के प्रचार के लिये निर्मित किये गये थे। ये स्थापत्य का भाग नहीं थे।

19.प्राचीन भारत में निम्नलिखित में से कौन-सी एक लिपि दायीं ओर से बायीं ओर लिखी जाती थी?

  1. ब्राह्मी
  2. देवनागरी 
  3. शारदा 
  4. खरोष्ठी

Ans – 4

खरोष्ठी लिपि को जेम्स प्रिंसेप (1799-1840) ने इण्डो-ग्रीक द्विभाषी सिक्कों की सहायता से पढ़ा। इससे अशोक के अभिलेखों को पढ़ने की दिशा में कदम बढ़ाये गये जो खरोष्टी लिपि में लिखे गये एशिया उपमहाद्वीप के उत्तर-पश्चिम में स्थित थे। खरोष्ठी लिपि दायी ओर से बायीं ओर लिखी जाती थी। शेष लिपियां बायीं से दायीं ओर लिखी जाती हैं। शारदा का विकास ब्राह्मी से ही हुआ है। 

20. नचिकेता और यम के बीच सुप्रसिद्ध संवाद उल्लिखित है-

  1. छान्दोग्योपनिषद् में
  2. मुण्डकोपनिषद् में
  3. कठोपनिषद् में
  4. केनोपनिषद् में

Ans – 3

‘कठोपनिषद’ में नचिकेता तथा यमराज (मृत्यु के देवता) के बीच संवाद है। इसमें नचिकेता शिष्य तथा यमराज गुरु थे।

UPSC Ancient History PYQ Solution

21. ‘मिलिन्दपन्हो’ राजा मिलिन्द और किस बौद्ध भिक्षु के मध्य संवाद के रूप में है?

  1. नागसेन
  2. नागार्जुन
  3. नागभट्ट 
  4. कुमारिल भट्ट 

Ans – 1

मिलिन्दपन्हो में इण्डो ग्रीक राजा मिलिन्द (मिनान्डर) और बौद्ध भिक्षु नागसेन के संवाद हैं। यह पालि भाषा में लिखा गया ग्रंथ है।

22. निम्नलिखित में से किस एक राज्यादेश में अशोक के व्यक्तिगत नाम का उल्लेख मिलता है?

  1. कालसी
  2. रूम्मिनदेई
  3. विशिष्ट कलिंग राज्यादेश
  4. मास्की

Ans – 4

अशोक के अभिलेखों में उसके व्यक्तिगत नाम का उल्लेख मास्की, गुर्जरा, नेत्तूर और उडेगोलम से मिलता है। रुद्रदामन के जूनागढ अभिलेख में भी अशोक के नाम का उल्लेख है।

23. महायान बौद्ध धर्म में बोधिसत्व अवलोकितेश्वर को और किस अन्य नाम से जानते हैं? 

  1. वज्रपाणि
  2. मंजुश्री
  3. पद्मपाणि
  4. मैत्रेय

Ans – 3

अवलोकितेश्वर बोधिसत्व है जो बौद्धों की करूणा के साकार रूप थे। ये महायान शाखा के अत्यन्त पूज्यनीय बोधिसत्वों में से एक थे। संस्कृत में अवलोकितेश्वर को पद्मपाणि (कमल को धारण किये हुए) अथवा लोकेश्वर (विश्व का स्वामी) के रूप में भी इंगित किया गया है।

24. गुप्त शासकों द्वारा जारी किए गए चाँदी के सिक्के कहलाते थे: 

  1. रूपक 
  2. कार्षापण 
  3. दीनार 
  4. पण 

Ans – 1

गुप्त शासकों द्वारा जारी किए गए चाँदी के सिक्के रुपक कहलाते थे, ये 32.36 ग्रेन के थे। गुप्त शासकों में सर्वप्रथम चन्द्रगुप्त द्वितीय ने चाँदी के सिक्के चलाए थे। दीनार सोने के, कर्षापण चांदी व तांबे के (गुप्तपूर्व) तथा पण तांबे का सिक्का था।

25. निम्नलिखित में से कौन-सा प्राचीन भारत में व्यापारियों का निगम था?

  1. चतुर्वेदीमंगलम 
  2. परिषद
  3. अष्टदिग्गज
  4. मणिग्राम

Ans – 4

‘मणिग्राम’ पश्चिमी चालुक्य शासकों के समय दक्षिण-भारतीय व्यापारियों की एक प्रभावशाली गिल्ड थी।

UPSC Ancient History PYQ Solution

26. यूनानी, कुषाण एवं शकों में से कई ने हिन्दू धर्म के स्थान पर बौद्ध को अपनाया, क्योंकि: 

  1. बौद्ध धर्म का उस समय प्रभुत्व था
  2. उन्होंने युद्ध और हिंसा की नीति का परित्याग कर दिया था 
  3. जाति प्रथा से अभिभूत हिन्दू धर्म की ओर वे आकर्षित नहीं हुए 
  4. बौद्ध धर्म के माध्यम से भारतीय समाज तक पहुँच अधिक आसान था। 

Ans – 3

यूनानी, कुषाण एवं शक शासकों में से कई ने हिन्दू धर्म के स्थान पर बौद्ध धर्म को अपनाया, क्योंकि जाति प्रथा से अभिभूत हिन्दू धर्म की ओर वे आकर्षित नहीं हुए। हिन्दू धर्म में उस समय कई प्रकार की सामाजिक एवं धार्मिक कुरीतियाँ आ गई थीं। इसके विपरीत बौद्ध धर्म की उदारता एवं प्रगतिशीलता से वे काफी प्रभावित एवं आकर्षित हुए।

27.अशोक के जो प्रमुख शिलालेख (Rock Edicts) संगम राज्य के विषय में हमें बताते हैं, उनमें सम्मिलित हैं:

  1. पहला और दसवाँ शिलालेख
  2. पहला और ग्यारहवाँ शिलालेख
  3. दूसरा और तेरहवाँ शिलालेख
  4. दूसरा और चौदहवाँ शिलालेख

Ans – 3

अशोक के दूसरे एवं तेरहवें शिलालेख से हमें संगम राज्य चोल, चेर (केरलपुत्र), पाण्ड्य एवं सतियपुत्र की जानकारी मिलती है। पहले अभिलेख में पशुबलि की निंदा, दसवे में ख्याति व गौरव की निंदा, ग्यारहवें में धम्म नीति की व्याख्या तथा चौदहवें में जनता को धार्मिक जीवन जीने के लिए प्रेरित करने का उल्लेख है।

28. निम्नलिखित युग्मों में से सही सुमेलित है:

  1. मृच्छकटिकम् – शुद्रक
  2. बुद्धचरित  –     वसुवन्धु
  3. मुद्राराक्षस – विशाखदत्त 
  4. हषचरित –  बाणभट्ट

नीचे दिये गये कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए:

कूट:

  1. 1, 2, 3 और 4
  2. 1, 3 और 4
  3. 1 और 4
  4. 2 और 3

Ans – 2

मृच्छकटिकम के रचयिता शुद्रक, मुद्राराक्षस के रचयिता विशाखदत्त, हर्षचरित के रचयिता बाणभट्ट थे। बुद्धचरित नामक ग्रन्थ की रचना अश्वघोष ने की थी।

UPSC Ancient History PYQ Solution

29. भारत में निम्नलिखित के आने का सही कालानुक्रम क्या है?

  1. सोने के सिक्के
  2. आहत मुद्रा चाँदी के सिक्के
  3. लोहे का हल
  4. नगर संस्कृति

नीचे दिए गये कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए:  

  1. 3,4,1,2
  2. 3,4,2,1
  3. 4,3,1,2
  4. 4,3,2,1

Ans – 4

निम्नलिखित का भारत में आने का सही कालानुक्रम इस प्रकार है- नगर संस्कृति, लोहे का हल, आहत मुद्रा, सोने के सिक्के । 

नगर संस्कृति → (हड़प्पा युग में) 

लोहे का हल – (उत्तर वैदिक युग में)

आहत मुद्रा चांदी के सिक्के → (बुद्ध युग में) 

सोने के सिक्के – (मौर्योत्तर युग में)

30. इस प्रश्न में दो वक्तव्य हैं एक को कथन (A) तथा दूसरे को कारण (R) कहा गया है, इन दोनों वक्तव्यों का सावधानीपूर्वक परीक्षण कर इन प्रश्नों का उत्तर नीचे दिए हुए कूट की सहायता से चुनिए: 

कथन (A): अशोक के राजादेशों के अनुसार धार्मिक निष्ठा की अपेक्षा जनता के मध्य सामाजिक समरसता अधिक महत्त्वपूर्ण थी। 

कारण (R): उसने धर्म संवर्धन के स्थान पर समदृष्टि के विचारों का प्रसार किया। 

कूट:

  1. A और R दोनों सही है, और R, A का सही स्पष्टीकरण है 
  2. A और R दोनों सही है, परन्तु R, A का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
  3. A सही है, परन्तु R गलत है 
  4. A गलत है, परन्तु R सही है

Ans – 1

अशोक के अभिलेख लोगों के बीच सामाजिक सामन्जस्य पर बल देते हैं जिसने समानता व निष्पक्षता का संदेश दिया धर्म के प्रोत्साहन का नहीं।

UPSC Ancient History PYQ Solution

31. निम्नलिखित युग्मों में से कौन-से सही सुमेलित हैं? 

  1. लोथल          प्राचीन गोदी क्षेत्र
  2. सारनाथ         बुद्ध का प्रथम धर्मोपदेश
  3. राजगीर        अशोक का सिंह स्तम्भ शीर्ष
  4. नालन्दा         बौद्ध अधिगम का महान् पीठ

नीचे दिये गये कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए-

कूट:

  1. 1, 2, 3 और 4
  2. 3 और 4
  3. 1, 2 और 4
  4. 1 और 2

Ans – 3

निम्नलिखित का सही सुमेलन इस प्रकार है-

प्राचीन गोदी क्षेत्र→ लोथल

बुद्ध का प्रथम धर्मोपदेश → सारनाथ 

अशोक का सिंह स्तम्भ शीर्ष   सारनाथ

बोद्ध अधिगम का महान पीठ  नालन्दा

32. निम्नलिखित प्राचीन भारतीय अभिलेखों में से कौन-से एक में खाद्यान्न को देश में संकटकाल में उपयोग हेतु सुरक्षित रखने के बारे में प्राचीनतम शाही आदेश है?

  1. सोहगौरा ताम्रपत्र
  2. अशोक का रुम्मिनदेई स्तम्भ – लेख
  3. प्रयाग प्रशस्ति
  4. चन्द्र का महरौली स्तम्भ शिलालेख

Ans – 1

अशोक के सोहगौरा तथा महास्थान अभिलेखों से पता चलता है कि अकाल के संकट के समय राज्य कोषागार से अन्न वितरण किया गया।

33. अष्टांग मार्ग की संकल्पना अंग है:

  1. दीपवंश की विषय वस्तु का
  2. दिव्यावदान की विषय वस्तु का
  3. महापरिनिर्वाण की विषय वस्तु का 
  4. धर्मचक्र प्रवर्तन सुत की विषय वस्तु का

Ans – 4

बुद्ध ने सांसारिक दुखों से मुक्ति के लिये अष्टांगिक मार्ग की संकल्पना का प्रतिपादन किया, जिसे बुद्ध का मध्यम मार्ग कहा गया है, जिस पर चलकर निर्वाण की प्राप्ति सम्भव है।

34. ईसा की तीसरी शताब्दी में, जबकि हूण आक्रमण से रोमन साम्राज्य समाप्त हो गया, भारतीय व्यापारी अधिकाधिक निर्भर हो गये:

  1. अफ्रीकी व्यापार पर
  2. पश्चिमी यूरोपीय व्यापार पर
  3. दक्षिण-पूर्व एशियाई व्यापार पर
  4. मध्य पूर्वी व्यापार पर

Ans – 3

ईसा की तीसरी शताब्दी में जब हूण आक्रमण से रोमन साम्राज्य समाप्त हो गया तब भारतीय व्यापारी अधिकाधिक दक्षिण-पूर्व एशियाई व्यापार पर निर्भर हो गये।

35. निम्नलिखित व्यक्ति भारत में किसी न किसी समय आए?

  1. फाह्यान
  2. इत्सिंग
  3. मेगस्थनीज 
  4. ह्वेनसांग

इनके आगमन का सही कालानुक्रम है:

  1. 3,1,2,4
  2. 3, 1, 4, 2
  3. 1,3,2,4
  4. 1,3,4,2

Ans – 2

निम्नलिखित व्यक्तियों के भारत आगमन का सही कालानुक्रम इस प्रकार है- 1. मेगस्थनीज 

2. फाह्यान 3. ह्वेनसांग 4. इत्सिंग। 

1. मेगस्थनीज – चन्द्रगुप्त मौर्य के शासन काल में

2. फाह्यान चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य के शासन काल में 

3. ह्वेनसांग – हर्षवर्द्धन के शासन काल में

4. इत्सिंग – सातवीं सदी में (हर्षवर्द्धन के शासन काल के बाद)

UPSC Ancient History PYQ Solution

36. निम्नलिखित में से कौन-सा एक ईसा पूर्व छठी शताब्दी में प्रारम्भ में भारत का सर्वाधिक शक्तिशाली नगर राज्य था? 

  1. गन्धार 
  2. कम्बोज 
  3. काशी 
  4. मगध 

Ans – 4

ईसा पूर्व छठी शताब्दी में भारत का सर्वाधिक शक्तिशाली नगर राज्य मगध था। मगध का सोलह महाजनपदों के अन्य राज्यों से शक्तिशाली होने का मुख्य कारण वहाँ की भौगोलिक दशाएँ थी। इसके अतिरिक्त सुयोग्य एवं महत्वाकांक्षी राजाओं का नेतृत्व भी मगध के शक्तिशाली होने का एक कारण था।

37. ईसा पूर्व दूसरी शताब्दी के प्रारम्भ में उत्तरी अफगानिस्तान में स्थापित भारत यूनानी राज्य थाः

  1. बैक्ट्रिया
  2. सीथिया 
  3. जेडरेसिया 
  4. आरिया

Ans – 1

ईसा पूर्व दूसरी शताब्दी के प्रारम्भ में उत्तरी अफगानिस्तान में स्थापित भारत यूनानी राज्य बैक्ट्रिया था ।

UPSC Ancient History PYQ Solution

38. ‘आर्य’ शब्द इंगित करता है:

  1. नृजाति समूह को
  2. यायावरी जन को
  3. भाषा समूह को 
  4. श्रेष्ठ वंश को

Ans – 3

‘आर्य’ शब्द भाषायी समूह का व्यंजक है। आर्यों की भाषा संस्कृत थी। संस्कृत भारोपीय भाषा परिवार का हिस्सा है। इन्हें भाषा परिवार इसलिए कहा गया क्योंकि आरंभ में उनमें कई शब्द एक जैसे थे। 1500 ई० पू० के आस-पास जब आर्यों ने भारत में प्रवेश किया तो वे एक ही भाषा का प्रयोग करते थे।

39. गुप्त काल में उत्तर भारतीय व्यापार निम्नलिखित में से किस एक पत्तन से संचालित होता था?

  1. ताम्रलिप्ति
  2. भड़ौच
  3. कल्याण
  4. कैम्बे

Ans – 1

ताम्रलिप्ति या ताम्रलिप्त बंगाल की खाड़ी में स्थित एक प्राचीन काल का शहर था जिसे वर्तमान भारत के तामलुक से समीकृत किया जाता है। ताम्रलिप्ति प्रारम्भिक ऐतिहासिक भारत में व्यापार व वाणिज्य का एक प्रमुख नगरीय केन्द्र रहा है। यहाँ से व्यापार सिल्क रोड से उत्तरापथ होते हुए मुख्य व्यापारिक मार्ग से मध्य-पूर्व और यूरोप से होता था और समुद्री रास्ते से बाली, जावा और सुदूर पूर्व से व्यापार होता था।

40. कथन (A): पाण्डिनेन किलकनक्कु समूह (Padinen Kilukanakku Group) की अहम (Aham) एवं पुरम (Puram) कविताएँ संगम रचनाओं का अनवर्तन हैं।

कारण (R): उन्हें प्रमुख संगम (Sangam) रचनाओं के विपरीत उत्तर संगम रचनाओं में सम्मिलित किया गया। 

नीचे दिए गए कूट से सही उत्तर का चयन कीजिए 

  1. A और R दोनों सही है, तथा R, A की सही व्याख्या है।
  2. A और R दोनों सही है, किन्तु R, A की सही व्याख्या नहीं है
  3. A सही है, किन्तु R गलत है 
  4. A गलत है, किन्तु R सही है

Ans – 1

संगम कालीन शिक्षाप्रद कविताओं को किलुकनक्कु कहा जाता है। ये 18 भागों में विभाजित है जिसमें तिरकुरूल व नाडियार हैं। अहम व पुरम कवितायें (किलुकनक्कु) उत्तर संगम काल में लिखी गईं। इसलिये (A) की सही व्याख्या (R) है।

UPSC Ancient History PYQ Solution

41. कथन (A): जैन धर्म के अहिंसा पर बल ने कृषकों को जैन धर्म अपनाने से रोका।

कारण (R): कृषि में कीटों एवं पीड़कों की हत्या होना शामिल है। 

नीचे दिए गए कूट से सही उत्तर का चयन कीजिए- 

  1. A तथा R दोनों सही है, तथा R, A की सही व्याख्या है।
  2. A तथा R दोनों सही है, किन्तु R, A की सही व्याख्या नहीं है 
  3. A सही है, किन्तु R गलत है
  4. A गलत है, किन्तु R सही है

Ans – 1

दोनों कथन सही हैं तथा कारण (R) कथन (A) की सही व्याख्या करता है क्योंकि अत्यधिक अहिंसा ने कृषकों को जैन धर्म अपनाने से रोका।

42. कथन (A) : प्राचीन भारत में सामन्ती व्यवस्था (Feudal system) का अभ्युदय सैनिक अभियानों में देखा जा सकता है। 

कारण (R): गुप्तकाल में सामन्ती व्यवस्था का पर्याप्त विस्तार हुआ।

उपरोक्त के संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन एक सही है?

  1. A और R दोनों सही है, और A की सही व्याख्या R है 
  2. A और R दोनों सही है, किन्तु A की सही व्याख्या R नहीं है
  3. A सही है, किन्तु R गलत है
  4. A गलत है, किन्तु R सही है

Ans – 2

प्राचीन भारत में राजाओं ने (विशेष रूप से मौर्य काल के बाद) भूमि का स्वामित्व ब्राह्मणों, विद्धानों, धार्मिक संस्थानों को देना शुरू कर दिया था। ऐसा सैन्य अभियान के दौरान अधिक होता था। गुप्तकाल में सामंतवाद का विस्तार हुआ तथा सामंतों को पर्याप्त अधिकार था। उन्हें व्यापारियों और शिल्पियों के संघ एवं अन्य सामुदायिक संस्थाओं के साथ सत्ता में भागीदार बनाया जाता था।

UPSC Ancient History PYQ Solution

43. कथन (A) : अशोक ने कलिंग को मौर्य साम्राज्य में जोड़ लिया। 

कारण (R) : कलिंग दक्षिण भारत से आने वाले स्थलीय एवं समुद्री मार्गो को नियन्त्रित करता था।

  1. A और R दोनों ही सही है, तथा R, A की सही व्याख्या करता है
  2. A और R दोनों सही है, किन्तु R, A की सही व्याख्या नहीं करता है
  3. A सही है, जबकि R गलत है
  4. A गलत है, जबकि R सही है

Ans – 1

प्राचानी भारत में कलिंग राज्य का अत्यंत सामरिक महत्व था एवं यह दक्षिण भारत से आने वाले स्थलीय एवं समुद्री मार्गों को नियंत्रित करता था, इसी कारण अशोक ने 261 ई. पू. में कलिंग पर आक्रमण कर इसे अपने राज्य में मिला लिया।

44. भारत में प्रथम बार सैनिक शासन (Military Governorship) व्यवहार में लाया गयाः 

  1. ग्रीकों द्वारा
  2. शकों द्वारा 
  3. पार्थियनों द्वारा
  4. मुगलों द्वारा

Ans – 1

भारत में प्रथम बार सैनिक शासन ग्रीकों (यूनानियों) द्वारा व्यवहार में लाया गया था। सिकन्दर ने अपने द्वारा जीते हुए प्रदेशों को अपने सैनिक अधिकारियों के अन्तर्गत रखा था।

45. सिकन्दर के हमले के समय उत्तर भारत पर निम्नलिखित राजवंशों में से किस एक का शासन था ?

  1. नन्द 
  2. मौर्य 
  3. शुंग 
  4. कण्व

Ans – 1

सिकन्दर (एलेक्जेन्डर) ने 326 ई. पू. में भारत पर आक्रमण किया। उस समय भारत पर नंदों का शासन था। तिथिक्रम की दृष्टि से इन चार राजवंशों का क्रम है- नंद, मौर्य, शुंग व कण्व ।

UPSC Ancient History PYQ Solution

46. होयसल स्मारक (Hoysala monuments) पाये जाते हैं: 

  1. हम्पी और हेलिविड में 
  2. हेलिविड और बेलूर में 
  3. मैसूर और बैंगलूर में 
  4. शृंगेरी और धारवाड़ में

Ans – 2

प्रारम्भ में होयसलों की राजधानी बेलूर थी परन्तु बाद में हेलीविड हो गई है। 

47. कथन (A): हर्षवर्द्धन ने प्रयाग संसद आयोजित की थी। 

कारण (R): वह बौद्ध धर्म की केवल महायान शाखा को लोकप्रिय बनाना चाहता था।

  1. A और R दोनों सही है तथा R, A की सही व्याख्या है
  2. A और R दोनों सही है, परन्तु R, A की सही व्याख्या नहीं है।
  3. A सही है, किन्तु R गलत है
  4. A गलत है, किन्तु R सही है

Ans – 2

हर्षवर्धन ने प्रयाग और कन्नौज में समिति बुलाई। प्रयाग समिति का आयोजन हर्ष ने स्वयं की प्रसिद्धि के लिये किया।

48. चोल राजाओं में किस एक ने सीलोन (Ceylon) पर विजय प्राप्त की थी?

  1. आदित्य प्रथम
  2. राजराजा प्रथम
  3. राजेन्द्र
  4. विजयालय

Ans – 3

1017 में राजेन्द्र ने सम्पूर्ण सीलोन (श्रीलंका) जीता। इससे पहले राजराज – प्रथम ने इसका आधा भाग जीता था।

UPSC Ancient History PYQ Solution

49. कश्मीर में कनिष्क के शासनकाल में जो बौद्ध संगीति आयोजित हुई थी उसकी अध्यक्षता निम्नलिखित में से किसने की थी? 

  1. पार्श्व 
  2. नागार्जुन 
  3. शूद्रक 
  4. वसुमित्र 

Ans – 4

कश्मीर के कुण्डलवन में कनिष्क के शासन काल में चतुर्थ बौद्ध संगीति का आयोजन हुआ। इस बौद्ध संगीति की अध्यक्षता वसुमित्र ने की थी। अश्वधोष इसके उपाध्यक्ष थे।

50. निम्नलिखित पशुओं में से किस एक का हड़प्पा संस्कृति में मिली मुहरों और टेराकोटा कलाकृतियों में निरूपण (Representation) नहीं हुआ था?

  1. गाय 
  2. हाथी 
  3. गैंडा
  4. बाघ

Ans – 1

मुहरों पर गाय, ऊँट, घोड़ा व शेर को प्रदर्शित नहीं किया गया था। एक शृंगी बैल अधिकांशतः मुहरों पर दर्शाया गया ।

UPSC Ancient History PYQ Solution

Important Links

UPSC Doubt DiscussionClick Here
WhatsApp GroupClick Here
Join Telegram ChannelClick Here
Subscribe Youtube ChannelClick Here
UPSC Ancient History PYQ Solution

For getting all UPSCSITE, visit our website regularly. Type always google upscsite.in

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button